प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, June 21, 2020

याद आई तो याद आई बहुत, - yaad aaee to yaad aaee bahut, -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

याद आई तो याद आई बहुत,
बात से निकली हुई बातों की।
याद आई तो याद आई बहुत,
कई मुश्किल भरे हालातों की।

आँख भर आती है पढ़ते-पढ़ते,
उनके क़िस्से, कहानियाँ उनकी,
एक बच्चा था उनको थामे हुए
और कुछ एक नादानियाँ उनकी,
याद आई तो याद आई बहुत,
ख़ौफ़ खाई उन मुलाक़ातों की।

राह पगडण्डियों की मारी थी
गाँव से ऐसी उनकी यारी थी
क्या कहें, क्या सुनें, बताएँ क्या
उनकी हर चाल में दुश्वारी थी
याद आई तो याद आई बहुत,
उनके दिन की, अन्धेरी रातों की।

चाहे जैसे, भले-बुरे जो थे,
गाँव था उनमें, गाँव में वो थे
घर, फ़सल, खेत, पेड़-पौधे सब
बेचकर आए शहर रो-रो के
याद आई तो याद आई बहुत,
उनके भीगे हुए जज़्बातों की।

क्योंकि कोई न था पीछे-आगे,
एक दिन शहर छोड़कर भागे,
सो गए, घाट वाले पीपल पर
अपनी तस्वीर को टाँगे-टाँगे,
याद आई तो याद आई बहुत,
बूढ़ी आँखों की, ख़ाली हाथों की



- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...