प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Sunday, June 21, 2020

ये जो उठ रहा है, क्या है - ye jo uth raha hai, kya hai -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

ये जो उठ रहा है, क्या है,
चारो तरफ़, बड़ी दूर तक,
ये जो लपट है, ये जो धुआँ है।

मुद्दत से सुलग-सुलग के,
खौल-खौल के अब उठा है।

जो खौफ़नाक, झुलस रहा
तेरी ज़मीं, तेरा आसमाँ है,
ये चुभेगा ही, तू घुटेगा ही,
लहू सोख कर के खिला है।
अब मिट रहे, जल-भुन रहे
तेरे जुल्म का ये मर्सिया है।

इस आग का, इस लपट का
तू तमाशबीन नया-नया है,
हाँफ ले, काँप ले अब तू भी,
ये नया-नया सिलसिला है।



- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...