प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, June 21, 2020

ये जो उठ रहा है, क्या है - ye jo uth raha hai, kya hai -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

ये जो उठ रहा है, क्या है,
चारो तरफ़, बड़ी दूर तक,
ये जो लपट है, ये जो धुआँ है।

मुद्दत से सुलग-सुलग के,
खौल-खौल के अब उठा है।

जो खौफ़नाक, झुलस रहा
तेरी ज़मीं, तेरा आसमाँ है,
ये चुभेगा ही, तू घुटेगा ही,
लहू सोख कर के खिला है।
अब मिट रहे, जल-भुन रहे
तेरे जुल्म का ये मर्सिया है।

इस आग का, इस लपट का
तू तमाशबीन नया-नया है,
हाँफ ले, काँप ले अब तू भी,
ये नया-नया सिलसिला है।



- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

BSNL Update: बीएसएनएल और एलन मस्क की स्टारलिंक साझेदारी

 बीएसएनएल और एलन मस्क की स्टारलिंक साझेदारी भारत का दूरसंचार परिदृश्य निकट भविष्य में एक बड़े बदलाव के कगार पर हो सकता है। लोगों की  नाराजगी...