प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

सपने में तिरबेनी काका पैसा-पैसा चिल्लाते हैं - sapane mein tirabenee kaaka paisa-paisa chillaate hain -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

सपने में तिरबेनी काका पैसा-पैसा चिल्लाते हैं

आँय-बाँय अब कोउ नाय है,
दाएँ-बाएँ सब साँय-साँय है
नेहरू जी की चाँय-चाँय है
गाँधी जी की काँय-काँय है
झूमा-झटकी झाँय-झाँय है
मची चुनावी ठाँय-ठाँय है

चोर-चपाटी, गुण्डा-सुण्डा अब तो जन-गण-मन गाते हैं
सपने में तिरबेनी काका पैसा-पैसा चिल्लाते हैं.....।

कूकर के दो आगे कूकर
कूकर के दो पीछे कूकर
आगे कूकर, पीछे कूकर
जनता पूछे — कितने कूकर
लोकतन्त्र कुकराता जाए
दुरदुर दुम दुबकाता जाए

दिल्ली की बिल्ली के दम पर शोहदे मालपुआ खाते हैं
सपने में तिरबेनी काका पैसा-पैसा चिल्लाते हैं....।

बिना मौत अभिमन्यु मर रहे
पँचाली बेजार रो रही,
छँटे-छँटाए बेशर्मों की
हैं राते गुलज़ार हो रहीं,
गान्धारी धृतराष्ट्र के लिए
दुर्योधन की नब्ज़ टो रही,

कौरव हथियारों की धुन पर जँगल में मँगल गाते हैं,
सपने में तिरबेनी काका पैसा-पैसा चिल्लाते हैं.....।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...