प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

कैसे-कैसे गीत गाए जा रहे हैं - kaise-kaise geet gae ja rahe hain -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

कैसे-कैसे गीत गाए जा रहे हैं,
सुन रहा हूँ, हँस रहा हूँ वक़्त पर।

बेवजह वो गुनगुनाए जा रहे हैं,
सुन रहा हूँ, हँस रहा हूँ वक़्त पर।

फटेहाली, ठण्ड, ठिठुरन, मौत,
गुस्सा इस तरफ की बस्तियों में,
उस तरफ डमरू बजाए जा रहे हैं,
सुन रहा हूँ, हँस रहा हूँ वक़्त पर।

ये अजनबी मस्तियों की लहर,
क्यों है मसखरी का यह जुनून,
बेसुरे सरगम सुनाए जा रहे हैं,
सुन रहा हूँ, हँस रहा हूँ वक़्त पर।

कुर्सियों वाली ज़मीनों में दफ़न
दौलत हड़पने की बड़ी जद्दोजहद,
दाँव सारे आजमाए जा रहे हैं,
सुन रहा हूँ, हँस रहा हूँ वक़्त पर।

रास आने लगा है हर शख़्स को
अब तो अमावस का अन्धेरा,
सुना है, दीए बुझाए जा रहे हैं,
सुन रहा हूँ, हँस रहा हूँ वक़्त पर।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...