प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

ताल पर अन्धेरा छा गया आरपार - taal par andhera chha gaya aarapaar -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

ताल पर
अन्धेरा छा गया आरपार,
उजियारे सपने
हो रहे तार-तार।

सुबह की
हथेली पर शाम के
चकत्ते,
थाल-थाल
ऐंठ गए
तुलसी के पत्ते,
मुट्ठीभर गिरवी दिन
पड़ गए उधार।

उग आए
आँख-आँख
छुरी और काँटे,
जीवन में कौन
और
अपना दुख बाँटे,
पत्थर-पत्थर उँगली
उठे बार-बार।

देखकर
उड़ानों से लगता है
ज़िन्दा,
रिश्तों की
सरहद
पर अजनबी परिन्दा,
हवा, धूप, पानी से बातें
दो-चार।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...