प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

ताल पर अन्धेरा छा गया आरपार - taal par andhera chha gaya aarapaar -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

ताल पर
अन्धेरा छा गया आरपार,
उजियारे सपने
हो रहे तार-तार।

सुबह की
हथेली पर शाम के
चकत्ते,
थाल-थाल
ऐंठ गए
तुलसी के पत्ते,
मुट्ठीभर गिरवी दिन
पड़ गए उधार।

उग आए
आँख-आँख
छुरी और काँटे,
जीवन में कौन
और
अपना दुख बाँटे,
पत्थर-पत्थर उँगली
उठे बार-बार।

देखकर
उड़ानों से लगता है
ज़िन्दा,
रिश्तों की
सरहद
पर अजनबी परिन्दा,
हवा, धूप, पानी से बातें
दो-चार।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...