प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

अब तो दुश्मन भी यार लगता है - ab to dushman bhee yaar lagata hai -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

अब तो दुश्मन भी यार लगता है।
दोस्त परवरदिगार लगता है।

बात कहने की हो या सुनने की,
इतना क्यों ऐतबार लगता है।

देखना, ख़ुद को देखना भी क्या,
आईना आर-पार लगता है।

अपनी फाकाकशी पे हँसता है,
वह बड़ा ज़ोरदार लगता है।

वक़्त ने इतना दे दिया उसको,
जैसे हर दिन उधार लगता है।

चाहे ओढ़े-बिछाए जितना भी
हर कोई तार-तार लगता है।

भूख में, पत्थरों की बारिश में,
आसमाँ हरसिंगार लगता है।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...