प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, April 12, 2020

सब रंग ना-तमाम हों हल्का लिबास हो - sab rang na-tamaam hon halka libaas ho -गुलाम मोहम्मद क़ासिर - Ghulam Mohammad Kasir #poemgazalshayari.in

सब रंग ना-तमाम हों हल्का लिबास हो
शफ़्फ़ाफ़ पानियों पे कँवल का लिबास हो

अश्कों से बुन के मर्सिया पहना दिया गया
अब जिंदगी के तन पे ग़ज़ल का लिबास हो

हर एक आदमी को मिले खिलअत-ए-बशर
हर के झोंपड़ी पे महल का लिबास हो

सुन ले जो आने वाले ज़माने की आहटें
कैसे कहे की आज भी कल का लिबास हो

या रब किसी सदी के उफ़क़ पर ठहर न जाए
इक ऐसी सुबह जिस का धुंदलका लिबास हो

उजला रहेगा सिर्फ़ मोहब्बत के जिस्म पर
सदियों का पैरहन हो की पल का लिबास हो

गुलाम मोहम्मद क़ासिर - Ghulam Mohammad Kasir

#poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...