प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Tuesday, September 3, 2019

ये भी क्या शाम-ए-मुलाक़ात आई - ye bhee kya shaam-e-mulaaqaat aaee - नासिर काज़मी- Nasir Kazmi

ये भी क्या शाम-ए-मुलाक़ात आई
लब पे मुश्किल से तेरी बात आई 

सुबह से चुप हैं तेरे हिज्र नसीब
हाय क्या होगा अगर रात आई 

बस्तियाँ छोड़ के बरसे बादल
किस क़यामत की ये बरसात आई 

कोई जब मिल के हुआ था रुख़सत
दिल-ए-बेताब वही रात आई

साया-ए-ज़ुल्फ़-ए-बुताँ में 'नासिर' 
एक से एक नई रात आई

- नासिर काज़मी- Nasir Kazmi


No comments:

Post a Comment

Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट की लिमिट कितनी है ?

  Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट  कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट  प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट ...