प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Tuesday, September 3, 2019

वो दिल नवाज़ है लेकिन नज़र-शनास नहीं - vo dil navaaz hai lekin nazar-shanaas nahin - - नासिर काज़मी- Nasir Kazmi

वो दिल नवाज़ है लेकिन नज़र-शनास नहीं 
मेरा इलाज मेरे चारागर के पास नहीं

तड़प रहे हैं ज़बाँ पर कई सवाल मगर 
मेरे लिये कोई शयान-ए-इल्तमास नहीं 

तेरे उजालों में भी दिल काँप-काँप उठता है 
मेरे मिज़ाज को आसूदगी भी रास नहीं 

कभी-कभी जो तेरे क़ुर्ब में गुज़ारे थे 
अब उन दिनों का तसव्वुर भी मेरे पास नहीं 

गुज़र रहे हैं अजब मर्हलों से दीदा-ओ-दिल 
सहर की आस तो है ज़िन्दगी की आस नहीं 

मुझे ये डर है तेरी आरज़ू न मिट जाये 
बहुत दिनों से तबीयत मेरी उदास नहीं

- नासिर काज़मी- Nasir Kazmi


No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...