प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Saturday, July 13, 2019

मेरी आंखों का प्रस्ताव ठुकरा के तुम - meree aankhon ka prastaav thukara ke tum - - Mohammad Imran "Prataparh" - मो० इमरान "प्रतापगढ़ी"

मेरी आंखों का प्रस्ताव ठुकरा के तुम,
मुझसे यूं न मिलो अजनबी की तरह !
अपने होठों से मुझको लगा लो अगर,
बज उठूंगा मैं फिर बांसुरी की तरह …….!
तुमको देखा तो सांसों ने मुझसे कहा,
ये वही है जिसे था तलाशा बहुत !
शब्द हैरान हैं व्यक्त कैसे करें,
होठ कैसे कहें मैं हूं प्यासा बहुत !!
मैं भी ख़ुद को समंदर समझने लगूं,
तुम जो मिल जाओ आकर नदी की तरह …..!
मुझसे यूं न मिलो अजनबी की तरह चांद चेहरे को सब शायरों ने कहा,
मैं भी कैसे कहूं,
चांद में दाग़ है !
दूध में थोड़ा सिंदूर मिल जाए तब,
तेरा चेहरा उसी तरह बेदाग़ है !!
धूप से रूप तेरा बचाऊंगा मैं,
सर पे रख लो मुझे ओढ़नी की तरह……!
मुझसे यूं न मिलो अजनबी की तरह लड़खड़ाई हुई ज़िंदगी है मेरी,
थाम लो मुझको मेरा सहारा बनो !
तुम जो पारो बनो देव बन जाऊं मैं,
वीर बन जाऊं मैं तुम जो ज़ारा बनो !
तुम निगाहों से दे दो इजाज़त अगर,
गुनागुना लूं तुम्हें शायरी की तरह…..!

- Mohammad Imran "Prataparh" - मो० इमरान "प्रतापगढ़ी"

1 comment:

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...