प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Saturday, July 13, 2019

हवा कुछ ऐसी चली है बिखर गए होते - hava kuchh aisee chalee hai bikhar gae hote - - Mohammad Imran "Prataparh" - मो० इमरान "प्रतापगढ़ी"

हवा कुछ ऐसी चली है बिखर गए होते
रगों में खून न होता तो मर गए होते

ये सर्द रात ये आवारगी ये नींद का बोझ
हम अपने शहर में होते तो घर गए होते

हमीं ने जख्मे -दिलो-जाँ छुपा लिए वरना
न जाने कितनों के चेहरे उतर गए होते

हमें भी दुख तो बहुत है मगर ये झूठ नहीं
भुला न देते उसे हम तो मर गए होते

सुकूने -दिल को न इस तरह से तरसते हम
तेरे करम से जो बच कर गुजर गए होते

जो हम भी उस से जमाने की तरह मिल लेते
हमारे शामो – ओ शहर भी संवर गए होते

- Mohammad Imran "Prataparh" - मो० इमरान "प्रतापगढ़ी"

2 comments:

  1. ये "निदा फ़ाज़ली" साहब की ग़ज़ल है

    ReplyDelete
  2. मुआफ़ी चाहता हूँ ये ग़ज़ल "निदा" साहब की नहीं बल्कि उनके भाई "उम्मीद फ़ाज़ली" साहब की है

    ReplyDelete

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...