प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, January 11, 2023

क्रेडिट कार्ड क्या है? क्रेडिट कार्ड के प्रकार? क्रेडिट कार्ड के लाभ और हानि क्या है? what is the credit card? what is the benefits of credit card?

क्रेडिट कार्ड क्या है? क्रेडिट कार्ड के प्रकार? क्रेडिट कार्ड के लाभ और हानि क्या है? what is the credit card? what is the benefits of credit card?

What is the credit card? क्रेडिट कार्ड क्या है?
क्रेडिट कार्ड एक पहले से अप्रूव एक लोन होता है, जो आपके क्रेडिट स्कोर, या आपके ट्रांजैक्शन के आधार पर आप को दिया जाता है?

क्रेडिट कार्ड कितने प्रकार का होता है? How many types of credit card?
क्रेडिट कार्ड मुख्यतः दो प्रकार का होता है जो निम्नलिखित है
1. Secure credit card
2. Unsecure credit card

What is the definition of secure credit card? सिक्योर कार्ड की परिभाषा क्या है?
सिक्योर क्रेडिट कार्ड में आपको सिक्योरिटी के लिए कुछ डॉक्यूमेंट जैसे एफडी या कोई अन्य फाइनेंसियल डॉक्यूमेंट जमा करना होता है, उसके बाद आपको क्रेडिट कार्ड दिया जाता है जिसे सिक्योर क्रेडिट कार्ड कहते हैं।

इस क्रेडिट कार्ड में आपने जो डॉक्यूमेंट दिया है उसका 75% लिमिट दिया जा सकता है।

What is the definition of unsecure credit card? अनसिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड क्या है?

अनसिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड में आपको कोई डॉक्यूमेंट जैसे एफडी या कोई अन्य डॉक्यूमेंट जमा करने की जरूरत नहीं होती है, बैंक आपको आपके ट्रांजैक्शन के आधार पर या फिर सिबिल रिपोर्ट के आधार पर आपको क्रेडिट कार्ड प्रोवाइड करती है।

What is the annual fee of credit card? क्रेडिट कार्ड का वार्षिक शुल्क कितना होता है?
हर क्रेडिट कार्ड का अपनी फीचर्स के अनुसार या कार्ड टाइप के अनुसार वार्षिक शुल्क अलग अलग होता है। 
लेकिन अप्लाई करने के बाद आप की पहली बिल पेमेंट के बाद वेलकम गिफ्ट दिया जाता है जो आपके एनुअल फी के लगभग बराबर होता है।
और आप भी क्रेडिट कार्ड की बेनिफिट्स या फीचर के अनुसार हर कार्ड का एक स्पेंड बेस रिवर्सल होता है जिसे एसबीआर SBR भी कहते हैं यह निर्धारित करता है कि आप कितना स्पेंड करने पर आपका वार्षिक शुल्क वापस हो जाएगा या आपका कार्ड फ्री हो जाएगा।

How to make a payment of your credit card ? क्रेडिट कार्ड का बिल भुगतान कैसे करें पेमेंट कैसे करें?

क्रेडिट कार्ड का पेमेंट करने के लिए अपने क्रेडिट कार्ड की ऑफिशियल वेबसाइट या फिर आए पर आप जा सकते हैं, या फिर आप किसी थर्ड पार्टी आपका उपयोग करके भी पेमेंट कर सकते हैं।
जिसमें आपको अमाउंट और कार्ड नंबर डालकर पेमेंट करना होता है अपने नेट बैंकिंग या फिर डेबिट कार्ड से।

How many third party apps or website available to make a credit Card payment? क्रेडिट कार्ड पेमेंट करने के लिए थर्ड पार्टी ऐप के नाम क्या है?

क्रेडिट कार्ड का पेमेंट करने के लिए बहुत से थर्ड पार्टी एप्लीकेशन या फिर वेबसाइट मौजूद है जो निम्नलिखित हैं:-
1. Phone pe
2. Paytm
3. Google pay
4. Amazon pay
5. Cred app
6. Rozer pay
7. Bill desk payment
इन सब में सबसे ज्यादा उपयोग किए जाने वाला बिलडेस्क पेमेंट mode है,
और कैशबैक के लिए सबसे ज्यादा उपयोग किए जाने वाला इस समय क्रेड एप्स है जो आपको पेमेंट करने पर भी कैशबैक देता है।

नोट:- कुछ बैंकों में थर्ड पार्टी से पेमेंट करने पर आपको 24 से 48 घंटे तक का वेट करना पड़ सकता है पेमेंट अपडेट होने के लिए।
और बैंक की साइट पर जाकर पेमेंट करने से वह पेमेंट आपका तुरंत रिफ्लेक्ट हो जाता है।

What is the procedure to apply a credit card? क्रेडिट कार्ड का आवेदन कैसे करें?
क्रेडिट कार्ड को अप्लाई करने के लिए आपको उस बैंक की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होता है वहां आपको अपने जरूरत के हिसाब से या आपके स्पेड के अनुसार
 कार्ड सिलेक्ट करना होता है जो कार्ड आपको अच्छा लगे वहां से आप रिप्लाई कर दीजिए, उसके बाद आपका केवाईसी वेरीफिकेशन होगा और बैंक की अप्रूवल के अनुसार 21 दिन के अंदर आपको क्रेडिट कार्ड दे दिया जाएगा या मिल जाएगा।

What is the Required document to apply credit card? क्रेडिट कार्ड अप्लाई करने के लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट की जरूरत होती है?
क्रेडिट कार्ड को अप्लाई करने के लिए आवेदन करने के लिए आपको निम्नलिखित डॉक्यूमेंट की जरूरत पड़ती है:-
1. PAN card
2. Aadhar card
3. Communication adress proof
4. Income document
आज डॉक्यूमेंट की जरूरत पड़ती है। इनकम डॉक्यूमेंट में आपको अपनी 2 महीने की लेटेस्ट सैलरी स्लिप या फिर इनकम टैक्स रिटर्न या फिर form16 दे सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड अप्लाई करने की योग्यता क्या है?
क्रेडिट कार्ड अप्लाई करने की अलग से कोई योग्यता नहीं होती है, यदि आपका कोई बिजनेस है या फिर आप सैलेरी पर्सन है और आपकी सैलरी 20000 के ऊपर है तो बैंक आपको क्रेडिट कार्ड दे सकती है।
कुछ क्रेडिट कार्ड में आपकी इनकम डॉक्यूमेंट जैसे सैलेरी स्लिप या फिर आइटीआर फॉर्म 16 देने की जरूरत नहीं पड़ती बैंक आपको आपके ट्रांजैक्शन और आपकी सिविल के आधार पर आपको क्रेडिट कार्ड ऑफर करती है जिसको आप ले सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड में लिमिट कितना मिलता है? और क्रेडिट कार्ड की लिमिट को कौन निर्धारित करता है?
क्रेडिट कार्ड की लिमिट को इंटरनल डिपार्टमेंट तय करती है।
जिसमें आपके कई बिंदु को ध्यान में रखकर आपको लिमिट प्रोवाइड किया जाता है जो निम्नलिखित हैं:-
1. आपके पास कितना क्रेडिट कार्ड है
2. आपका पेमेंट कैसे होता है
3. सभी क्रेडिट कार्ड से आप का वार्षिक खर्च कितना होता है
4. आप क्रेडिट कार्ड से कहां ज्यादा खर्च करते हैं
5. आपका इनकम सोर्स क्या है
6. आपका सिबिल स्कोर कैसा है
और भी बहुत कुछ जांच करने के बाद आपको लिमिट दिया जाता है।
आपका बिजनेस या फिर सैलरी व्यक्ति हैं तो बैंक आपको जो मैक्सिमम हो सकता है आपको लिमिट दे सकती है।
और यदि आप एफडी के आधार पर काट लेना चाहते हैं तो आपको अपने एफडी अमाउंट का मैक्सिमम 75% लिमिट दिया जा सकता है।

क्रेडिट कार्ड के लाभ क्या है? Benefits of credit card?
क्रेडिट कार्ड से आपको बहुत से लाभ है जैसे:-
1. आप कोई भी खर्च करके उसकी EMI करा सकते हैं
2. आप क्रेडिट कार्ड से इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन भी कर सकते हैं
3. बैलेंस ट्रांसफर करके किसी अन्य क्रेडिट कार्ड का बिल भर सकते हैं
4. इसमें आपको बैंक द्वारा पर्सनल लोन मिल जाता है बिना किसी डॉक्यूमेंट के
5. आपका सिबल स्कोर अच्छा होता है
6. आप अपने ट्रांजैक्शन को खुद से चालू और बंद कर सकते हैं
7. सोसाइटी में आपको एक अलग पहचान मिलती है
और भी बहुत से बेनिफिट्स हैं जो आपको क्रेडिट कार्ड से मिलते हैं।

क्रेडिट कार्ड के नुकसान क्या है? Disadvantage of credit card?
क्रेडिट कार्ड से बहुत से लाभ होते हैं साथ ही आपको कुछ नुकसान भी होते हैं जो निम्नलिखित हैं जैसे:-

1. आपको ज्यादा खर्च करने की लत लग सकती है
2. आप क्रेडिट कार्ड की लिमिट को लोन की तरह खर्च करते हैं
3. आप का क्रेडिट लिमिट एक प्रकार का लोन होता है
4. क्रेडिट कार्ड का पेमेंट समय पर न करने पर आपको चार्ज लगता है
5. क्रेडिट कार्ड से फ्रॉड ज्यादा होता है
6. कार्ड का पेमेंट ना करने पर आपको कोर्ट का चक्कर लगाना पड़ सकता है
आज बहुत से नुकसान है क्रेडिट कार्ड को यूज को लेकर।

क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड में क्या अंतर होता है? Difference between credit card and debit card?
सबसे पहले हम डेबिट कार्ड की परिभाषा या अंतर समझ लेते हैं जो निम्नलिखित है
1. डेबिट कार्ड में आप जो पैसा जमा करते हैं आप वही खर्च करते हैं
2. डेबिट कार्ड में खर्च करने पर आपको रीवार्ड प्वाइंट नहीं मिलता है
3. डेबिट कार्ड में आप बहुत सोच समझकर खर्च करते हैं
4. डेबिट कार्ड से फ्रॉड कम होता है
5. डेबिट कार्ड की किसी भी समस्या के लिए आप अपने ब्रांच में जा सकते हैं
6. डेबिट कार्ड से आप इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन नहीं कर सकते
7. आप डेबिट कार्ड के ट्रांजैक्शन को मंथली इंस्टॉलमेंट में कन्वर्ट नहीं कर सकते

क्रेडिट कार्ड के अंतर निम्नलिखित हैं
1. क्रेडिट कार्ड में लोन का पैसा होता है
2. इसमें आप जो खर्च करते हैं आपको रिवॉर्डज प्वाइंट मिलता है
3. इसमें आपको खर्च करने पर कैशबैक भी मिलता है
4. क्रेडिट कार्ड से आपका सिविल मेंटेन रहता है
5. आप अपने खर्च को मंथली इंस्टॉलमेंट में कन्वर्ट कर सकते हैं
6. इसमें आपको बिना किसी डॉक्यूमेंट के पर्सनल लोन मिल जाता है
7. बैलेंस ट्रांसफर करके किसी अन्य क्रेडिट कार्ड का पेमेंट भी कर सकते हैं
8. इमरजेंसी होने पर आप अपने लिमिट का 5 परसेंट या फिर मैक्सिमम 10 परसेंट ओवरलिमिट भी खर्च कर सकते हैं
आज बेनिफिट्स आपको क्रेडिट कार्ड से मिलते हैं।

क्रेडिट कार्ड में Add-on कार्ड क्या है? How to apply I Addon card in credit card?
Add-on इसका अर्थ जुड़ा हुआ या मिला हुआ होता है, इस कार्ड का आवेदन आप प्राइमरी कार्ड होल्डर के अकाउंट पर कर सकते हैं, जिसका कोई वार्षिक शुल्क नहीं होता है और ऐडऑन कार्ड आप अपने फैमिली मेंबर के लिए 2 कार्ड अप्लाई कर सकते हैं जो आप की लिमिट को ही यूज करेंगे।

क्रेडिट कार्ड का स्टेटमेंट कब बनता है? 
क्रेडिट कार्ड का स्टेटमेंट आपकी बिलिंग साइकिल के दिन जनरेट होता है, और बिल बनने के बाद 20 दिन के अंदर आपको पेमेंट करना होता है, उदाहरण के लिए मान लीजिए आपका बिलिंग साइकिल 5 तारीख है तो आपका ड्यू डेट 25 तारीख आएगा। मतलब जो आपको पेमेंट करना रहेगा वह 25 तारीख के अंदर करना रहेगा।

क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट में मिनिमम अमाउंट ड्यू या फिर टोटल अमाउंट ड्यू क्या है? What is the definition of minimum amount due to and total amount due?
आपके स्टेटमेंट में पेमेंट करने के लिए दो due दिए जाते हैं
जिसे मिनिमम अमाउंट ड्यू या फिर टोटल अमाउंट ड्यू कहते हैं
मिनिमम अमाउंट ड्यू:
यह आपकी खर्च का 5 परसेंट अमाउंट होता है जिसका पेमेंट आप कर सकते हैं लेकिन आपके अगले बिल में आपको फाइनेंस चार्ज लग कर आएगा, हर बैंक का फाइनेंस चार्ज कुछ कम या ज्यादा हो सकता है।
टोटल अमाउंट ड्यू:
टोटल अमाउंट ड्यू वह अमाउंट है जो अमाउंट आपने क्रेडिट कार्ड से खर्च किया है, Due date तक यदि आप पूरा पेमेंट कर देते हैं तो आपको कोई चार्ज नहीं लगता है


हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए हम आपका आभार व्यक्त करते है | इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा Facebook, Whatsapp जैसे सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करें | धन्यवाद !!!
www.poemgazalshayari.in
लेख@अम्बिका राही

No comments:

Post a Comment