प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Thursday, June 18, 2020

उँगली में पोर-पोर नाधे सुख-दुख - ungalee mein por-por naadhe sukh-dukh -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

उँगली में पोर-पोर नाधे सुख-दुख।
बित्ताभर जीवन के रोज़ नए रुख।

खोज-खोज राह थके, ठाँव-ठौर गुम,
कोई कहे चलता चल, कोई कहे रुक।

चूल्हा-चक्की लादे डगर-मगर पाँव,
आएँ-नहीं-जाएँ प्राण करें धुक-धुक।

सीना ताने क्यों, फैले दोनो हाथ,
चाहे तो रीढ़ बिना और जरा झुक।

सौ-सौ अनर्थ लिए एक-एक अर्थ,
तितर-बितर शब्द हुए, मिलें नहीं तुक।


- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...