प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

आज तक नहीं जान पाया हूँ - aaj tak nahin jaan paaya hoon -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

आज तक नहीं जान पाया हूँ।
कितना अपना हूँ मैं, पराया हूँ।

जिसे बुरे वक़्त ने तराशा है,
उसका सबसे हसीन साया हूँ।

शख़्सियत है मेरी अकेलापन,
सिरफिरे शोर का सताया हूँ।

होम में हाथ जले हैं अक्सर,
अन्धड़ों में दिया जलाया हूँ।

खोजने ख़ुद को जब भी निकला,
ख़ुद में बैरंग लौट आया हूँ।

ख़ून के घूँट रोज़ पी-पीकर,
दर्द की नदी में नहाया हूँ ।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...