प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, March 11, 2020

सन्ध्या की किरण परी ने उठ अरुण पंख दो खोले - sandhya kee kiran paree ne uth arun pankh do khole -sachchidanand hiranand vatsyayan "agay"- सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय" #Poem Gazal Shayari



सन्ध्या की किरण परी ने उठ अरुण पंख दो खोले,
कम्पित-कर गिरि शिखरों के उर-छिपे रहस्य टटोले।
देखी उस अरुण किरण ने कुल पर्वत-माला श्यामल-
बस एक शृंग पर हिम का था कम्पित कंचन झलमल।

प्राणों में हाय, पुरानी क्यों कसक जग उठी सहसा?
वेदना-व्योम से मानो खोया-सा स्मृति-घन बरसा।
तेरी उस अन्त घड़ी में तेरी आँखों में जीवन!
ऐसा ही चमक उठा था तेरा अन्तिम आँसू-कण!

sachchidanand hiranand vatsyayan "agay"- सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय"

#Poem Gazal Shayari

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...