प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, November 18, 2019

मैं लाख कह दूं कि आकाश हूं ज़मीं हूं मैं - main laakh kah doon ki aakaash hoon zameen hoon main - राहत इंदौरी - Rahat Indori

मैं लाख कह दूं कि आकाश हूं ज़मीं हूं मैं 
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूं मैं 

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को 
वहां पे ढूंढ रहे हैं जहां नहीं हूं मैं
मायूस...
मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था 
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूं मैं 

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी 
कहीं कहीं हूं कहां हूं कहीं नहीं हूं मैं 

किताब...
वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है 
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूं मैं 

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ 
ये मेरा हुक्म है हालांकि कुछ नहीं हूं मैं 

तलाश...
यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था 
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूं मैं 

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएंगी 
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूं मैं 

- राहत इंदौरी - Rahat Indori


No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...