प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Tuesday, September 3, 2019

"नासिर" क्या कहता फिरता है कुछ न सुनो तो बेहतर है - "naasir" kya kahata phirata hai kuchh na suno to behatar hai - - नासिर काज़मी- Nasir Kazmi

"नासिर" क्या कहता फिरता है कुछ न सुनो तो बेहतर है 
दीवाना है दीवाने के मुँह न लगो तो बेहतर है 

कल जो था वो आज नहीं जो आज है कल मिट जायेगा 
रूखी-सूखी जो मिल जाये शुक्र करो तो बेहतर है 

कल ये ताब-ओ-तवाँ न रहेगी ठंडा हो जायेगा लहू 
नाम-ए-ख़ुदा हो जवाँ अभी कुछ कर गुज़रो तो बेहतर है 

क्या जाने क्या रुत बदले हालात का कोई ठीक नहीं 
अब के सफ़र में तुम भी हमारे साथ चलो तो बेहतर है 

कपड़े बदल कर बाल बना कर कहाँ चले हो किस के लिये 
रात बहुत काली है "नासिर" घर में रहो तो बेहतर है

- नासिर काज़मी- Nasir Kazmi


No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...