प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Tuesday, September 3, 2019

नये कपड़े बदल कर जाऊँ कहाँ और बाल बनाऊँ किस के लिये - naye kapade badal kar jaoon kahaan aur baal banaoon kis ke liye - - नासिर काज़मी- Nasir Kazmi

नये कपड़े बदल कर जाऊँ कहाँ और बाल बनाऊँ किस के लिये 
वो शख़्स तो शहर ही छोड़ गया मैं बाहर जाऊँ किस के लिये 

जिस धूप की दिल को ठंडक थी वो धूप उसी के साथ गई
इन जलती बलती गलियों में अब ख़ाक उड़ाऊँ किस के लिये 

वो शहर में था तो उस के लिये औरों से मिलना पड़ता था 
अब ऐसे-वैसे लोगों के मैं नाज़ उठाऊँ किस के लिये 

अब शहर में इस का बादल ही नहीं कोई वैसा जान-ए-ग़ज़ल ही नहीं 
ऐवान-ए-ग़ज़ल में लफ़्ज़ों के गुलदान सजाऊँ किस के लिये 

मुद्दत से कोई आया न गया सुनसान पड़ी है घर की फ़ज़ा 
इन ख़ाली कमरों में "नासिर" अब शम्मा जलाऊँ किस के लिये

- नासिर काज़मी- Nasir Kazmi


No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...