प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Tuesday, September 3, 2019

मुमकिन नहीं मता-ए-सुख़न मुझ से छीन ले - mumakin nahin mata-e-sukhan mujh se chheen le - - नासिर काज़मी- Nasir Kazmi

मुमकिन नहीं मता-ए-सुख़न मुझ से छीन ले 
गो बाग़बाँ ये कंज-ए-चमन मुझ से छीन ले 

गर एहतराम-ए-रस्म-ए-वफ़ा है तो ऐ ख़ुदा 
ये एहतराम-ए-रस्म-ए-कोहन मुझ से छीन ले 

मंज़र दिल-ओ-निगाह के जब हो गये उदास 
ये बे-फ़ज़ा इलाक़ा-ओ-तन मुझ से छीन ले 

गुलरेज़ मेरी नालाकशी से है शाख़-शाख़ 
गुलचीँ का बस चले तो ये फ़न मुझ से छीन ले 

सींची हैं दिल के ख़ून से मैं ने ये क्यारियाँ 
किस की मजाल मेरा चमन मुझ से छीन ले 

- नासिर काज़मी- Nasir Kazmi


No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...