प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, August 21, 2019

समुद्र का पानी - samudr ka paanee - -raamadhaaree sinh "dinakar" -रामधारी सिंह "दिनकर"

बहुत दूर पर 
अट्टहास कर 
सागर हँसता है। 
दशन फेन के, 
अधर व्योम के। 

ऐसे में सुन्दरी! बेचने तू क्या निकली है, 
अस्त-व्यस्त, झेलती हवाओं के झकोर
सुकुमार वक्ष के फूलों पर ?

सरकार! 
और कुछ नहीं, 
बेचती हूँ समुद्र का पानी। 
तेरे तन की श्यामता नील दर्पण-सी है, 
श्यामे! तूने शोणित में है क्या मिला लिया ?

सरकार! 
और कुछ नहीं, 
रक्त में है समुद्र का पानी। 

माँ! ये तो खारे आँसू हैं, 
ये तुझको मिले कहाँ से?

-raamadhaaree sinh "dinakar"  -रामधारी सिंह "दिनकर"

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...