प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Wednesday, August 21, 2019

समुद्र का पानी - samudr ka paanee - -raamadhaaree sinh "dinakar" -रामधारी सिंह "दिनकर"

बहुत दूर पर 
अट्टहास कर 
सागर हँसता है। 
दशन फेन के, 
अधर व्योम के। 

ऐसे में सुन्दरी! बेचने तू क्या निकली है, 
अस्त-व्यस्त, झेलती हवाओं के झकोर
सुकुमार वक्ष के फूलों पर ?

सरकार! 
और कुछ नहीं, 
बेचती हूँ समुद्र का पानी। 
तेरे तन की श्यामता नील दर्पण-सी है, 
श्यामे! तूने शोणित में है क्या मिला लिया ?

सरकार! 
और कुछ नहीं, 
रक्त में है समुद्र का पानी। 

माँ! ये तो खारे आँसू हैं, 
ये तुझको मिले कहाँ से?

-raamadhaaree sinh "dinakar"  -रामधारी सिंह "दिनकर"

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...