प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Saturday, July 13, 2019

सब अभी से बदल गया माँ - sab abhee se badal gaya maan- Kavi Ramesh Sharma- कवि रमेश शर्मा

"सब अभी से बदल गया माँ, क्योँ अभी से बदल गया माँ? 
 साँझी धूप मुझको रखते मुझको भी जलने देते,
कच्ची,पक्की डगर पे सँग सँग कुछ दिन चलने देते ,
डाँट डपट और लडना झगडना लाड मेँ ढल गया माँ! 
सब अभी से बदल गया माँ ॥ 
 वो ही बाहरी द्वार खिडकियाँ तू बदली ना बदली मैँ दिन भर उथल पुथल कर करती तेरी बिटिया पगली मैँ लाड चाव की थी मै कल तक आज लाड को सलती हूँ अपने आँगन के अपनो मे मेहमानो सी रहती हूँ आते आते कल आयेगा आज फिर सल गया माँ । 
सब अभी से बदल गया माँ ॥ 
 छोटू का तो मुझसे जैसे जनम का बैर पुराना था, रक्षा बँधन के दिन तक भी मुझे रुला कर आना था,
मेरे हाथो कल उसका मिट्टी का गुल्लक टूट गया ,मै डरते बोली की जाने कैसे हाथ से छूट गया ,खूब झगडना था उसके चुपचाप निकल गया माँ । 
सब अभी से बदल गया माँ ॥ 
 मेरे हँसने और गाने पर चिढकर कहती थी दादी, ऊँट सरीखी हुई है फिर भी अक्ल अभी तक है आधी, हुवा उसे क्या मुझको अब तो बिटिया बिटिया कहती है, लाड लडाती हँसती है पर आँखे भीगी रहती है, धागा जलना है बाकी,मोम पिघल गया माँ । 
सब अभी से बदल गया माँ ॥ 
 पहले पापा बात बात पर हाथ है तँग बताते थे ,
मेरी माँगी चीजे कितने-कितने दिन नही लाते थे, अनचाही बिन माँगी चीजे अब तो घर मेँ आती है, लेकिन भैया की फरमाईश पापा से छुप जाती है ,भैया को साईकिल देना,फिर से टल गया माँ ।
 सब अभी से बदल गया माँ ॥ 
 Kavi Ramesh Sharma- कवि रमेश शर्मा 


No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...