प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Friday, July 12, 2019

अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ -ab tujhe main yaad aana chaahata hoon - Katai Shifai- क़तील शिफ़ाई

अपने होंटों पर सजाना चाहता हूँ आ तुझे मैं गुनगुनाना चाहता हूँ  कोई आँसू तेरे दामन पर गिरा कर बूँद को मोती बनाना चाहता हूँ  थक गया मैं करते करते याद तुझ को अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ  छा रहा है सारी बस्ती में अँधेरा रौशनी कोघर जलाना चाहता हूँ  आख़री हिचकी तिरे ज़ानू पे आए मौत भी मैं शाइराना चाहता हूँ 

Katai Shifaiक़तील शिफ़ाई 

No comments:

Post a Comment

Describe the difference between a public network and a private network @PoemGazalShayari.in

 Describe the difference between a public network and a private network Topic Coverd: Private Network: Access Restriction Security Scalabili...