प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Tuesday, October 27, 2020

कभी था नाज़ ज़माने को अपने हिन्द पै भी - kabhee tha naaz zamaane ko apane hind pai bhee - बृज नारायण चकबस्त - brij naaraayan chakabast

 कभी था नाज़ ज़माने को अपने हिन्द पै भी

पर अब उरूज वो इल्मो कमालो फ़न में नहीं ।


रगों में ख़ून वही दिल वही जिगर है वही

वही ज़बाँ है मगर वो असर सख़ुन में नहीं ।


वही है बज़्म वही शम्-अ है वही फ़ानूस

फ़िदाय बज़्म वो परवाने अंजुमन में नहीं ।


वही हवा वही कोयल वही पपीहा है

वही चमन है पर वो बाग़बाँ चमन में नहीं ।


ग़ुरूरों जहल ने हिन्दोस्ताँ को लूट लिया

बजुज़ निफ़ाक़ के अब ख़ाक भी वतन में नहीं ।


बृज नारायण चकबस्त - brij naaraayan chakabast


No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...