प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Tuesday, June 9, 2020

तन की दुति स्याम सरोरुह लोचन कंज की मंजुलताई हरैं - tan kee duti syaam saroruh lochan kanj kee manjulataee harain - तुलसीदास- Tulsidas #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

तन की दुति स्याम सरोरुह लोचन कंज की मंजुलताई हरैं।
अति सुन्दर सोहत धूरि भरे छबि भूरि अनंग की दूरि धरैं।
दमकैं दँतियाँ दुति दामिनि ज्यौं किलकैं कल बालबिनोद करैं।
अवधेस के बालक चारि सदा तुलसी-मन-मंदिर में बिहरैं।

 तुलसीदास- Tulsidas

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

चीनी वैज्ञानिकों ने स्मार्टफ़ोन पर सैटेलाइट कॉल कैसे संभव बनाया | Satellite Calling Project तियानटोंग China

चीनी वैज्ञानिकों ने स्मार्टफ़ोन पर सैटेलाइट कॉल कैसे संभव बनाया  | Satellite Calling Project China   चीनी वैज्ञानिकों ने स्मार्टफ़ोन पर सैटे...