प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Saturday, June 20, 2020

सूरज के सिरहाने बैठा अँगरेज़ है - sooraj ke sirahaane baitha angarez hai -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

सूरज के सिरहाने बैठा अँगरेज़ है,
धूप बड़ी तेज़ है, धूप बड़ी तेज़ है।

चालू-पुरजे, हरफ़न मौले चारो तरफ़,
हौले-हौले मौसम खौले चारो तरफ़,
होंठ हवा के फटना हैरतअंगेज़ है।

पाँव देख-देख किए मन उदास मोरनी,
टुकर-टुकर ताक रही प्यासी कठफोरनी,
बून्द-बून्द का क़िस्सा फिर वहशतखेज़ है।

ताप-ताप चीख़ एक-सी इसकी-उसकी,
आँख-आँख दरिया, आँसू-आँसू सिसकी,
पानी-पानी मन पर सहरा की सेज है।

ऐसी लू-लपट चली चट्टी-दर-चट्टी
अपनी ही आँच-आँच पिघल गई भट्ठी
ठूँठ खड़ी चिमनी को धुएँ से गुरेज है।

छाँव-छाँव बरगद ने चाल चली गहरी
डाल-डाल, पात-पात सज गई कचहरी
सोने की कुर्सी है, चाँदी की मेज़ है।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...