प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Friday, June 26, 2020

नभ पर काले बादल छाए - nabh par kaale baadal chhae -- उषा यादव- Usha Yadav #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

नभ पर काले बादल छाए।
नाचे मोर पपीहा गाए।
टप- टप बुँदे गिरें सुहानी,
छप-छप करने जितना पानी।

आसमान पर बजे नगाड़े।
बिजली ने भी झण्डे गाड़े।
नाच रही परियों की रानी,
घुटनो-घुटनो पहुँचा पानी।

भरे लबालब ताल –तलैया।
सर-सर –सर दौड़ेगी नैया।
झट से अगर बना दे नानी,
ओहो, हुआ कमर तक पानी।

कहाँ सो गए सूरज दादा।
ओढ़े भीगा हुआ लबादा।
सर्दी खा जाने की ठानी?
कंधे –कंधे तक है पानी।

पानी –पानी –पानी –पानी।
धरती से अंबर तक पानी।
अब तो गैया –भैंस डुबानी,
बोल मेरी मछली कितना पानी?

- उषा यादव- Usha Yadav

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

Please Subscribe to our youtube channel

https://www.youtube.com/channel/UCdwBibOoeD8E-QbZQnlwpng

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...