प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Thursday, June 11, 2020

माला पहिरे मनमुषी, ताथैं कछू न होई - Mala pahir manmushi, tathain kachu na hoi -कबीर- Kabir #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

माला पहिरे मनमुषी, ताथैं कछू न होई ।
मन माला कौं फेरता, जग उजियारा सोइ ॥1॥

भावार्थ -- लोगों ने यह `मनमुखी' माला धारण कर रखी है, नहीं समझते कि इससे कोई लाभ होने का नहीं । माला मन ही की क्यों नहीं फेरते ये लोग ? `इधर' से हटाकर मन को `उधर' मोड़ दें, जिससे सारा जगत जगमगा उठे । [ आत्मा का प्रकाश फैल जाय और भर जाय सर्वत्र ।]

`कबीर' माला मन की, और संसारी भेष ।
माला पहर्‌यां हरि मिलै, तौ अरहट कै गलि देखि ॥2॥

भावार्थ - कबीर कहते हैं - सच्ची माला तो अचंचल मन की ही है, बाकी तो संसारी भेष है मालाधारियों का । यदि माला पहनने से ही हरि से मिलन होता हो, तो रहट को देखो, हरि से क्या उसकी भेंट हो गई, इतनी बड़ी माला गले में डाल लेने से ?


माला पहर्‌यां कुछ नहीं, भगति न आई हाथ ।
माथौ मूँछ मुँडाइ करि, चल्या जगत के साथ ॥3॥

भावार्थ - यदि भक्ति तेरे हाथ न लगी, तो माला पहनने से क्या होना-जाना ? केवल सिर मुँड़ा लिया और मूँछें मुँड़ा लीं - बाकी व्यवहार तो दुनियादारों के जैसा ही है तेरा ।

साईं सेती सांच चलि, औरां सूं सुध भाइ ।
भावै लम्बे केस करि, भावै घुरड़ि मुंडाइ ॥4॥

भावार्थ -स्वामी के प्रति तुम सदा सच्चे रहो,और दूसरों के साथ सहज-सीधे भाव से बरतो फिर चाहे तुम लम्बे बाल रखो या सिर को पूरा मुँड़ा लो । [वह मालिक भेष को नहीं देखता, वह तो सच्चों का गाहक है ।]

केसों कहा बिगाड़िया, जो मुँडै सौ बार ।
मन को काहे न मूंडिये, जामैं बिषय-बिकार ॥5॥

भावार्थ -बेचारे इन बालों ने क्या बिगाड़ा तुम्हारा,जो सैकड़ों बार मूँड़ते रहते हो अपने मन को मूँड़ो न, उसे साफ करलो न ,जिसमें विषयों के विकार-ही-विकार भरे पड़े हैं ।

स्वांग पहरि सोरहा भया, खाया पीया खूंदि ।
जिहि सेरी साधू नीकले, सो तौ मेल्ही मूंदि ॥6॥

भावार्थ - वाह! खूब बनाया यह साधु का स्वांग ! अन्दर तुम्हारे लोभ भरा हुआ है और खाते पीते हो ठूंस-ठूंस कर , जिस गली में से साधु गुजरता है, उसे तुमने बन्द कर रखा है ।

बैसनों भया तौ क्या भया, बूझा नहीं बबेक ।
छापा तिलक बनाइ करि, दगध्या लोक अनेक ॥7॥

भावार्थ -इस तरह वैष्णव बन जाने से क्या होता है, जब कि विवेक को तुमने समझा नहीं ! छापे और तिलक लगाकर तुम स्वयं विषय की आग में जलते रहे, और दूसरों को भी जलाया।

तन कों जोगी सब करै, मन कों बिरला कोइ ।
सब सिधि सहजै पाइये, जे मन जोगी होइ ॥8॥

भावार्थ - तन के योगी तो सभी बन जाते हैं, ऊपरी भेषधारी योगी । मगर मन को योग के रंग में रँगनेवाला बिरला ही कोई होता है । यह मन अगर योगी बन जाय, तो सहज ही सारी सिद्धियाँ सुलभ हो जायंगी ।

पष ले बूड़ी पृथमीं, झूठे कुल की लार ।
अलष बिसार्‌यो भेष मैं, बूड़े काली धार ॥9॥

भावार्थ - किसी-न-किसी पक्ष को लेकर, वाद में पड़कर और कुल की परम्पराओं को अपनाकर यह दुनिया डूब गई है । भेष ने `अलख' को भुला दिया । तब काली धार में तो डूबना ही था ।

चतुराई हरि ना मिलै, ए बातां की बात ।
एक निसप्रेही निरधार का, गाहक गोपीनाथ ॥10॥

भावार्थ - कितनी ही चतुराई करो, उसके सहारे हरि मिलने का नहीं, चतुराई तो सारी - बातों-ही-बातों की है । गोपीनाथ तो एक उसीका गाहक है, उसीको अपनाता है । जो निस्पृह और निराधार होता है। [दुनिया की इच्छाओं में फँसे हुए और जहाँ-तहाँ अपना आश्रय खोजनेवाले को दूसरा कौन खरीद सकता है, कौन उसे अंगीकार कर सकता है ?]

 कबीर- Kabir

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...