प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

खुद के ख़िलाफ़ कैसी चाल चल गया हूँ मैं - khud ke khilaaf kaisee chaal chal gaya hoon main -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

खुद के ख़िलाफ़ कैसी चाल चल गया हूँ मैं।
बच्चों की तरह दौड़ कर मचल गया हूँ मैं।

इतना सम्भल-सम्भल के पाँव रखते हुए भी,
क्यों डगमगा रहा हूँ, क्यों फिसल गया हूँ मैं।

आहट जो बार-बार की, दस्तक कोई ऐसी,
लगता है कि दहशत में हूँ, दहल गया हूँ मैं।

आँखों में चुभ रहा कोई मौसम धुआँ-धुआँ,
सुलगा अभी-अभी है, अभी जल गया हूँ मैं।

अन्धेरा रात का था, रोशनी का इन्तज़ार
फिर शाम-सा क्यों सुबह-सुबह ढल गया हूँ मैं।

मंज़िल मेरी रफ़्तार से क्यों मुतमईन नहीं,
राहें बदल गई हैं या बदल गया हूँ मैं।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...