प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Friday, June 19, 2020

चला था दूर से मंज़िल के लिए - chala tha door se manzil ke lie -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

चला था दूर से मंज़िल के लिए,
थक गया वो भी, राह बाक़ी रही।

दर्द के कारवाँ गुज़रते रहे,
खूबसूरत पनाह बाक़ी रही।

कितनी हसरत से सफ़र नापा था,
आरजू ख़ामख़्वाह बाक़ी रही।

रोज़ गुज़रा जुनून की हद से,
फिर भी चाहत अथाह बाक़ी रही।

काश, उसको भी मिल गई होती,
थामने वाली बाँह, बाक़ी रही।

ख़ूब हँसता था, ख़ूब रोता था,
अब ख़यालों में आह बाक़ी रही।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

विंडोज कंप्यूटर पर किसी वेबसाइट को ब्लाक करने का सबसे आसान तरीका

विंडोज कंप्यूटर पर किसी वेबसाइट को ब्लाक करने का सबसे आसान तरीका    अब आप अपने कंप्यूटर सिस्टम को इंटरनेट की दुनिया में और भी सुरक्षित बना स...