प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Thursday, May 28, 2020

गीली भादों रैन अमावस - geelee bhaadon rain amaavas -- नागार्जुन - Nagarjuna #poemgazalshayari.in

गीली भादों
रैन अमावस

कैसे ये नीलम उजास के
अच्छत छींट रहे जंगल में
कितना अद्भुत योगदान है
इनका भी वर्षा–मंगल में
लगता है ये ही जीतेंगे
शक्ति प्रदर्शन के दंगल में
लाख–लाख हैं, सौ हजार हैं
कौन गिनेगा, बेशुमार हैं
मिल–जुलकर दिप–दिप करते हैं
कौन कहेगा, जल मरते हैं...
जान भर रहे हैं जंगल में

जुगनू है ये स्वयं प्रकाशी
पल–पल भास्वर पल–पल नाशी
कैसा अद्भुत योगदान है
इनका भी वर्षा मंगल में
इनकी विजय सुनिश्चित ही है
तिमिर तीर्थ वाले दंगल में
इन्हें न तुम 'बेचारे' कहना
अजी यही तो ज्योति–कीट हैं
जान भर रहे हैं जंगल में

गीली भादों
रैन अमावस

- नागार्जुन - Nagarjuna
#poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट की लिमिट कितनी है ?

  Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट  कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट  प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट ...