प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, April 5, 2020

वन-वन में फागुन लगा, भाई रे ! - van-van mein phaagun laga, bhaee re ! -रवीन्द्रनाथ टैगोर - Rabindranath tagore, #poemgazalshayari.in



वन-वन में फागुन लगा, भाई रे !
पात पात फूल फूल डाल डाल
देता दिखाई रे !!
अंग रंग से रंग गया आकाश गान गान निखिल उदास ।
चल चंचल पल्लव दल मन मर्मर संग ।
हेरी ये अवनी के रंग ।
करते (हैं) नभ का तप भंग ।।
क्षण-क्षण में कम्पित है मौन ।
आई हँसी उसकी ये आई रे ।
वन-वन में दौड़ी बतास ।
फूलों से मिलने को कुंजों के पास ।।
सुर उसका पड़ता सुनाई रे !!




रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Rabindranath Thakur,
रवीन्द्रनाथ टैगोर - Rabindranath tagore,

#poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...