प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, April 5, 2020

हो चित्त जहाँ भय-शून्य, माथ हो उन्नत - Hō citta jahām̐ bhaya-śūn'ya, mātha hō unnata -रवीन्द्रनाथ टैगोर - Rabindranath tagore, #poemgazalshayari.in


हो चित्त जहाँ भय-शून्य, माथ हो उन्नत
हो ज्ञान जहाँ पर मुक्त, खुला यह जग हो
घर की दीवारें बने न कोई कारा
हो जहाँ सत्य ही स्रोत सभी शब्दों का
हो लगन ठीक से ही सब कुछ करने की
हों नहीं रूढ़ियाँ रचती कोई मरुथल
पाये न सूखने इस विवेक की धारा
हो सदा विचारों ,कर्मों की गतो फलती
बातें हों सारी सोची और विचारी
हे पिता मुक्त वह स्वर्ग रचाओ हममें
बस उसी स्वर्ग में जागे देश हमारा.

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Rabindranath Thakur,
रवीन्द्रनाथ टैगोर - Rabindranath tagore,

#poemgazalshayari.in


No comments:

Post a Comment

MNP मोबाइल नंबर पोर्ट कैसे किया जाता है ? जुलाई 2024 में नए मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नियम। नई MNP नीति क्या है?

 जुलाई 2024 में नए मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नियम। Content: जुलाई 2024 में नए मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नियम। ट्राई ने एमएनपी नीति में बदलाव क...