प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Saturday, March 14, 2020

हस्ती के शज़र में जो यह चाहो कि चमक जाओ - hastee ke shazar mein jo yah chaaho ki chamak jao -अकबर "इलाहाबादी" - Akbar "Allahabadi" Poem Gazal Shayari



हस्ती के शज़र में जो यह चाहो कि चमक जाओ
कच्चे न रहो बल्कि किसी रंग मे पक जाओ

मैंने कहा कायल मै तसव्वुफ का नहीं हूँ
कहने लगे इस बज़्म मे जाओ तो थिरक जाओ

मैंने कहा कुछ खौफ कलेक्टर का नहीं है
कहने लगे आ जाएँ अभी वह तो दुबक जाओ

मैंने कहा वर्जिश कि कोई हद भी है आखिर
कहने लगे बस इसकी यही हद कि थक जाओ

मैंने कहा अफ्कार से पीछा नहीं छूटता
कहने लगे तुम जानिबे मयखाना लपक जाओ

मैंने कहा अकबर मे कोई रंग नहीं है
कहने लगे शेर उसके जो सुन लो तो फडक जाओ


अकबर "इलाहाबादी" - Akbar "Allahabadi"

Poem Gazal Shayari

No comments:

Post a Comment

मोबाइल का सॉफ्टवेर कैसे इनस्टॉल करें

 मोबाइल का सॉफ्टवेर कैसे इनस्टॉल करें  मोबाइल का सॉफ्टवेर कैसे इनस्टॉल करें गूगल अकाउंट कैसे बनाये ? द्विचरण सत्यापन क्या है ? द्विचरण सत्या...