प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, March 11, 2020

अब आप हीं सोचिये कि कितनी सम्भावनाएँ हैं - ab aap heen sochiye ki kitanee sambhaavanaen hain -sachchidanand hiranand vatsyayan "agay"- सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय" #Poem Gazal Shayari #Poem_Gazal_Shayari

अब आप हीं सोचिये कि कितनी सम्भावनाएँ हैं
कि मैं आप पर हँसूं और आप मुझे पागल करार दे दें.
याकि आप मुझ पर हँसें और आप हीं मुझे पागल करार दे दें.
या कि आपको कोई बताए
कि मुझे पागल करार किया गया
और आप केवल हँस दें.
या कि हँसी की बात जाने दीजिए
मैं गाली दूं और आप...
लेकिन बात दोहराने से क्या लाभ
आप समझ तो गये न
कि मैं कहना क्या चाहता हूँ?
क्यूँकि पागल न तो आप हैं और न मैं
बात केवल करार दिये जाने की है.
या हाँ कभी गिरफ्तार किये जाने की है.
तो क्या किया जाए?
हाँ! हंसा तो जाए
हंसना कब-कब नसीब होता है?
पर कौन पहले हँसे
किबला आप किबला आप.


sachchidanand hiranand vatsyayan "agay"- सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय"

#Poem Gazal Shayari

#Poem_Gazal_Shayari

No comments:

Post a Comment

मोबाइल का सॉफ्टवेर कैसे इनस्टॉल करें

 मोबाइल का सॉफ्टवेर कैसे इनस्टॉल करें  मोबाइल का सॉफ्टवेर कैसे इनस्टॉल करें गूगल अकाउंट कैसे बनाये ? द्विचरण सत्यापन क्या है ? द्विचरण सत्या...