प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, January 27, 2020

अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो, कि दास्ताँ आगे और भी है - abhee na parda girao, thaharo, ki daastaan aage aur bhee hai - - गुलज़ार – gulazaar - Poem Gazal Shayari

अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो, कि दास्ताँ आगे और भी है
अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो!
अभी तो टूटी है कच्ची मिट्टी, अभी तो बस जिस्म ही गिरे हैं
अभी तो किरदार ही बुझे हैं
अभी सुलगते हैं रूह के ग़म, अभी धड़कते हैं दर्द दिल के
अभी तो एहसास जी रहा है
यह लौ बचा लो जो थक के किरदार की हथेली से गिर पड़ी है
यह लौ बचा लो यहीं से उठेगी जुस्तजू फिर बगूला बनकर,
यहीं से उठेगा कोई किरदार फिर इसी रोशनी को लेकर,
कहीं तो अंजाम-ओ-जुस्तजू के सिरे मिलेंगे,
अभी न पर्दा गिराओ, ठहरो!

- गुलज़ार - gulazaar

#guljar
#gazar
#Gazal,
#poem,
#kavita,
#shayari,
#poem gazal shayari

No comments:

Post a Comment

Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट की लिमिट कितनी है ?

  Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट  कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट  प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट ...