प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, October 13, 2019

इस तरफ से गुज़रे थे काफ़िले बहारों के - is taraph se guzare the kaafile bahaaron ke - -साहिर_लुधियानवी - saahir ludhiyaanavee

इस तरफ से गुज़रे थे काफ़िले बहारों के
आज तक सुलगते हैं ज़ख्म रहगुज़ारों के

खल्वतों के शैदाई[1] खल्वतों में खुलते हैं
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दादारों के

पहले हंस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं
आश्ना-सिफ़त[2] हैं लोग अजनबी दियारों के[3]

तुमने सिर्फ चाहा है हमने छू के देखे हैं
पैरहन[4] घटाओं के, जिस्म बर्क-पारों[5] के

शगले-मयपरस्ती[6] गो जश्ने-नामुरादी है
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों[7] के

-साहिर_लुधियानवी - saahir ludhiyaanavee

No comments:

Post a Comment

Describe the difference between a public network and a private network @PoemGazalShayari.in

 Describe the difference between a public network and a private network Topic Coverd: Private Network: Access Restriction Security Scalabili...