प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Thursday, September 5, 2019

लफ़्ज़ एहसास—से छाने लगे, ये तो हद है - lafz ehasaas—se chhaane lage, ye to had hai - - दुष्यंत कुमार - Dushyant Kumar

लफ़्ज़ एहसास—से छाने लगे, ये तो हद है

लफ़्ज़ माने भी छुपाने लगे, ये तो हद है


आप दीवार उठाने के लिए आए थे

आप दीवार उठाने लगे, ये तो हद है


ख़ामुशी शोर से सुनते थे कि घबराती है

ख़ामुशी शोर मचाने लगे, ये तो हद है


आदमी होंठ चबाए तो समझ आता है

आदमी छाल चबाने लगे, ये तो हद है


जिस्म पहरावों में छुप जाते थे, पहरावों में—

जिस्म नंगे नज़र आने लगे, ये तो हद है


लोग तहज़ीब—ओ—तमद्दुन के सलीक़े सीखे

लोग रोते हुए गाने लगे, ये तो हद है 

- दुष्यंत कुमार - Dushyant Kumar

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...