प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, August 19, 2019

जाओ कल्पित साथी मन के - jao kalpit saathee man ke- - हरिवंशराय बच्चन - harivansharaay bachchan

जाओ कल्पित साथी मन के!

जब नयनों में सूनापन था,
जर्जर तन था, जर्जर मन था,
तब तुम ही अवलम्ब हुए थे मेरे एकाकी जीवन के!
जाओ कल्पित साथी मन के!

सच, मैंने परमार्थ ना सीखा,
लेकिन मैंने स्वार्थ ना सीखा,
तुम जग के हो, रहो न बनकर बंदी मेरे भुज-बंधन के!
जाओ कल्पित साथी मन के!

जाओ जग में भुज फैलाए,
जिसमें सारा विश्व समाए,
साथी बनो जगत में जाकर मुझ-से अगणित दुखिया जन के!
जाओ कल्पित साथी मन के!

- हरिवंशराय बच्चन - harivansharaay bachchan

No comments:

Post a Comment

PF क्या है ? पीएफ में फॉर्म 31 क्या है? फार्म 19 क्या है? फार्म 10c क्या है?

Key Content: PF क्या है ?  पीएफ में फॉर्म 31 क्या है? फार्म 19 क्या है? फार्म 10c क्या है?  PF क्या है ईपीएफओ का पूरा नाम एम्पलाई प्रोविडेंट...