प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Tuesday, August 20, 2019

हिंया_नहीं_कोऊ_हमार- hinya_nahin_kooo_hamaar-- हरिवंशराय बच्चन - harivansharaay bachchan

अस्‍त रवि

ललौंछ रंजित पच्छिमी नभ;

क्षितिज से ऊपर उठा सिर चल कर के

एक तारा

मद-आभा

उदासी जैसे दबाए हुए अंदर

आर्द्र नयनों मुस्‍कराता,

एक सूने पथ पर

चुपचाप एकाकी चले जाते

मुसाफिर को कि जैसे कर रहा हो कुछ इशारा


जिंदगी का नाम

यदि तुम दूसरा पूछो,

मुझे

'संबंध' कहते

कुछ नहीं संकोच होगा।

किंतु मैं पूछूँ

कि सौ संबंध रखकर

है कहीं कोई

नहीं जिसने किया महसूस

वह बिल्‍कुल अकेला है कहीं पर?

जिस 'कहीं' में

पूर्णत: सन्‍नाहित है

व्‍यक्‍त‍ित्‍व और अस्तित्‍व उसका।


और ऐसी कूट एकाकी क्षणों में

क्‍या हृदय को चीर कर के

है नहीं फूटा कभी आह्वान यह अनिवार

"उड़ी चलो हँसा और देस,

हिंया नहीं कोऊ हमार!


और क्‍या

इसकी प्रतिध्‍वनि

नहीं उसको दी सुनाई

इस तरह की सांध्‍य तारे से कि जो अब

कालिमा में डूबती ललौंछ में

सिर को छिपाए

माँगता साँप बसेरा

पच्छिमी निद्रित क्षितिज से झुक

नितांत एकांत-प्रेरा?

- हरिवंशराय बच्चन - harivansharaay bachchan

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...