प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, July 31, 2019

जो बन संवर के वो एक माहरू निकलता है - jo ban sanvar ke vo ek maaharoo nikalata hai - आदिल रशीद- aadil rasheed


जो बन संवर के वो एक माहरू निकलता है 
तो हर ज़बान से बस अल्लाह हू [2]निकलता है 

हलाल रिज्क का मतलब किसान से पूछो 
पसीना बन के बदन से लहू निकलता है

ज़मीन और मुक़द्दर की एक है फितरत 
के जो भी बोया वो ही हुबहू निकलता है 

ये चाँद रात ही दीदार का वसीला है
बरोजे ईद ही वो खूबरू निकलता है 

तेरे बग़ैर गुलिस्ताँ को क्या हुआ आदिल 
जो गुल निकलता है बे रंगों बू निकलता है 


- आदिल रशीद- aadil rasheed

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...