प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Friday, July 12, 2019

हम आप क़यामत से गुज़र क्यूँ नहीं जाते - ham aap qayaamat se guzar kyoon nahin jaate- Mahboob khiza- महबूब ख़िज़ां

हम आप क़यामत से गुज़र क्यूँ नहीं जाते जीने की शिकायत है तो मर क्यूँ नहीं जाते  कतराते हैं बल खाते हैं घबराते हैं क्यूँ लोग सर्दी है तो पानी में उतर क्यूँ नहीं जाते  आँखों में नमक है तो नज़र क्यूँ नहीं आता पलकों पे गुहर हैं तो बिखर क्यूँ नहीं जाते  अख़बार में रोज़ाना वही शोर है यानी अपने से ये हालात सँवर क्यूँ नहीं जाते  ये बात अभी मुझ को भी मालूम नहीं है पत्थर इधर आते हैं उधर क्यूँ नहीं जाते  तेरी ही तरह अब ये तिरे हिज्र के दिन भी जाते नज़र आते हैं मगर क्यूँ नहीं जाते  अब याद कभी आए तो आईने से पूछो 'महबूब-ख़िज़ाँशाम को घर क्यूँ नहीं जाते 
Mahboob khizaमहबूब ख़िज़ां 

No comments:

Post a Comment

Teri Muhabbat ne sikhaya, mujhe bharosha karna | Love Shyaari | Pyar shyari | shayari with image | couple shayari

 Teri Muhabbat ne sikhaya, mujhe bharosha karna, warna ek sa samjh sabko, gunah kar baitha tha. -Ambika Rahee हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए ...