प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Saturday, December 31, 2022

यातायात चालान क्या है? यातायात चालान कब होता है? आरटीओ का ऑनलाइन चालान क्या है?

यातायात चालान क्या है? यातायात चालान कब होता है? आरटीओ का ऑनलाइन चालान क्या है?

यातायात चालान क्या है?
किसी भुगतान की आधिकारिक रसीद या शुल्क को चालान कहते हैं। और यदि यह भुगतान यातायात के संबंध में हो तो आपका यह चालान यातायात चालान कहा जाएगा।

यातायात चालान कब होता है?
यातायात, परिवहन चालान आपके यातायात नियमों के उल्लंघन करने पर किया जाता है, यह यातायात नियम तोड़ने के संबंध में एक शुल्क या दंड लिया जाता है।

यातायात चलाना आपको कब हो सकता है?
यातायात चलाना आपको निम्नलिखित प्रकार से हो सकते हैं

सिग्नल तोड़ने पर यह जंप करने पर
हेलमेट ना पहनने पर
परिवहन इंस्ट्रक्शन फॉलो न करने पर
बाइक चलाते वक्त जूता ना पहनने पर
आपकी इंडिकेटर सही ना होने पर
कई प्रकार से यातायात चालान हो सकते हैं, आपको ध्यान रखना है क्या आप अपनी तरफ से कुछ गलती ना करें जिसे किसी की जान माल का नुकसान हो।

आरटीओ का ऑनलाइन चालान क्या होता है?
जब आपको किसी भी दंड में आरटीओ पकड़ती है और आपके पास एक पैसा नहीं है तो वह आपके चालान को ऑनलाइन कर देता है आपके फोन में एक लिंक भेज दिया जाता है आपको उसी लिंक से पेमेंट करना होता है।

ऑनलाइन चालान जमा न करने पर क्या होता है?
ऑनलाइन चालान जमा करने का 3 महीने का समय होता है यह 3 महीने के अंदर आपका पेमेंट नहीं आता है जमा नहीं होता है तो वह चालान कोर्ट में चला जाता है और कोर्ट आप को नोटिस भेजत है, आपको तीन नोटिस भेजा जाता है फिर भी यदि आप कोर्ट में हाजिर नहीं होते हैं तो आप के नाम पर अरेस्ट वारंट निकल सकता है।

मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है |
हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए हम आपका आभार व्यक्त करते है | इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा Facebook, Whatsapp जैसे सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करें | धन्यवाद !!!
www.poemgazalshayari.in
लेख@अम्बिका राही

No comments:

Post a Comment