प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Friday, July 30, 2021

मुस्तफ़ा जैदी | Mustafa Jaidi | Shayari | Love Shayari | Poemgazalshayari.in

मुस्तफ़ा जैदी | Mustafa Jaidi | Shayari | Love Shayari


 हम अंजुमन में सबकी तरफ़ देखते रहे 

अपनी तरह से कोई अकेला नहीं मिला 


अब तो चुभती है हवा बर्फ़ के मैदानों की 

इन दिनों जिस्म के एहसास से जलता था बदन


कच्चे घड़े ने जीत ली नद्दी चढ़ी हुई 

मज़बूत क़श्तियों को किनारा नहीं मिला 

ऐ कि अब भूल गया रंगे-हिना भी तेरा 

ख़त कभी ख़ून से तहरीर हुआ करते थे 


कभी झिड़की से कभी प्यार से समझाते रहे 

हम गई रात पे दिल को लिए बहलाते रहे 


रूह के इस वीराने में तेरी याद ही सब कुछ थी 

आज तो वो भी यूँ गुज़री जैसे ग़रीबों का त्यौहार 

सीने में ख़िज़ां आंखों में बरसात रही है 

इस इश्क़ में हर फ़स्ल की सौग़ात रही है 


ढलेगी रात आएगी सहर आहिस्ता- आहिस्ता 

पियो इन अंखड़ियों के नाम पर आहिस्ता- आहिस्ता 


दिखा देना उसे ज़ख़्मे-जिगर आहिस्ता- आहिस्ता 

समझकर, सोचकर, पहचानकर आहिस्ता- आहिस्ता 

अभी तारों से खेलो चांदनी से दिल बहलाओ 

मिलेगी उसके चेहरे की सहर आहिस्ता-आहिस्ता 


सूफ़ी का ख़ुदा और था शायर का ख़ुदा और 

तुम साथ रहे हो तो करामात रही है 


इतना तो समझ रोज़ के बढ़ते हुए फ़ित्ने 

हम कुछ नहीं बोले तो तिरी बात रही है 

किसी जुल्फ़ को सदा दो, किसी आंख को पुकारो

बड़ी धूप पड़ रही है कोई सायबां नहीं है 


इन्हीं पत्थरों से चलकर अगर आ सको तो आओ 

मेरे घर के रास्ते में कोई कहकशां नहीं है 


- मुस्तफ़ा जैदी | Mustafa Jaidi | Shayari | Love Shayari


हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए हम आपका आभार व्यक्त करते है | इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा Facebook, Whatsapp जैसे सोशल मिडिया पर जरूर शेयर करें | धन्यवाद  !!!


www.poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...