प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

फ़कत उड़ने का बहाना एक जंगल और - fakat udane ka bahaana ek jangal aur -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

फ़कत उड़ने का बहाना एक जंगल और।
रह गया बाक़ी ठिकाना एक जंगल और।

दूर तक आकाश है चारों दिशाओं में,
दूर तक देखे ज़माना एक जंगल और।

पसलियों को कस लिया है एक अजगर ने,
मौत का मंज़र पुराना एक जंगल और।

लद गए दिन फड़फड़ाते पंख खुलने के,
रहा अपना आशियाना एक जंगल और।

वक़्त को पहचान पाना बहुत मुश्किल है,
वक़्त से पहले न जाना एक जंगल और।

खुली आँखों एक सपना सामने जो है,
ख़्वाहिशों में अब न आना एक जंगल और।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...