प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, April 12, 2020

वो बे-दिली में कभी हाथ छोड़ देते हैं - vo be-dilee mein kabhee haath chhod dete hain -गुलाम मोहम्मद क़ासिर - Ghulam Mohammad Kasir #poemgazalshayari.in

वो बे-दिली में कभी हाथ छोड़ देते हैं
तो हम भी सैर-ए-समावात छोड़ देते हैं

जब उन के गिर्द कहानी तवाफ करने लगे
तो दरमियाँ से कोई बात छोड़ देते हैं

दुआ करेंगे मगर उस मकाम से आगे
तमाम लफ़्ज़ जहाँ साथ छोड़ देते हैं

दिए हों इतने की ख़्वाबों को रास्ता न मिले
तो शहर अपनी रितायात छोड़ देते हैं

हर एक शाख़् पे जब साँप का गुमाँ गुज़रे
फ़क़ीर कश्फ़ आ करामात छोड़ देते हैं

जमाल अपने नज़्ज़ारों में गया ऐ दिल
सो उस की मेज़ पे सौगात छोड़ देते हैं

गुलाम मोहम्मद क़ासिर - Ghulam Mohammad Kasir

#poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...