प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, February 5, 2020

हरगिज़ गलत निगाह से परखा न कर मुझे - haragiz galat nigaah se parakha na kar mujhe - Qmar Ejaj Best Shayari- Poem Gazal Shayari




हरगिज़ गलत निगाह से  परखा न कर मुझे,

 मैं तेरा हो चुका हूं सोचा न कर मुझे,

 तनहाइयों में बैठकर तन्हा न कर मुझे,

 मैं घुट कर न मर जाऊं ऐसा न कर मुझे,

 तू मुझको भूल जाए मुझे इसका गम नहीं,

 लेकिन खुदा के वास्ते रुसवा न कर मुझे,

 एजाज तेरे इश्क में बीमार हो गया,

 तेरा मरीज ए इश्क हूं अच्छा न कर मुझे,


Qmar Ejaj 


haragiz galat nigaah se  parakha na kar mujhe,

 main tera ho chuka hoon socha na kar mujhe,

 tanahaiyon mein baithakar tanha na kar mujhe,

 main ghut kar na mar jaoon aisa na kar mujhe,

 too mujhako bhool jae mujhe isaka gam nahin,

 lekin khuda ke vaaste rusava na kar mujhe,

 ejaaj tere ishk mein beemaar ho gaya,

 tera mareej e ishk hoon achchha na kar mujhe.

Qmar Ejaj.


Qmar Ejaj Best shayari on poemgazalshayari.com 
#shayari #poem #gazal #kavita

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...