प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Tuesday, September 3, 2019

तेरे ख़याल से लौ दे उठी है तनहाई - tere khayaal se lau de uthee hai tanahaee - - नासिर काज़मी- Nasir Kazmi

तेरे ख़याल से लौ दे उठी है तनहाई 
शब-ए-फ़िराक़ है या तेरी जल्वाआराई 

तू किस ख़याल में है ऐ मंज़िलों के शादाई 
उन्हें भी देख जिन्हें रास्ते में नींद आई 

पुकार ऐ जरस-ए-कारवाँ-ए-सुबह-ए-तरब 
भटक रहे हैं अँधेरों में तेरे सौदाई 

राह-ए-हयात में कुछ मर्हले तो देख लिये 
ये और बात तेरी आरज़ू न रास आई 

ये सानिहा भी मुहब्बत में बारहा गुज़रा 
कि उस ने हाल भी पूछा तो आँख भर आई 

फिर उस की याद में दिल बेक़रार है "नासिर" 
बिछड़ के जिस से हुई शहर-शहर रुसवाई 

- नासिर काज़मी- Nasir Kazmi


No comments:

Post a Comment

BSNL Update: बीएसएनएल और एलन मस्क की स्टारलिंक साझेदारी

 बीएसएनएल और एलन मस्क की स्टारलिंक साझेदारी भारत का दूरसंचार परिदृश्य निकट भविष्य में एक बड़े बदलाव के कगार पर हो सकता है। लोगों की  नाराजगी...