प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Thursday, August 8, 2019

लब-ए-साहिल समुंदर की फ़रावानी से मर जाऊँ - lab-e-saahil samundar kee faraavaanee se mar jaoon -Mahshar afridi - महशर आफ़रीदी

लब-ए-साहिल समुंदर की फ़रावानी से मर जाऊँ 

मुझे वो प्यास है शायद कि मैं पानी से मर जाऊँ 

तुम उस को देख कर छू कर भी ज़िंदा लौट आए हो 

मैं उस को ख़्वाब में देखूँ तो हैरानी से मर जाऊँ 

मैं इतना सख़्त-जाँ हूँ दम बड़ी मुश्किल से निकलेगा 

ज़रा तकलीफ़ बढ़ जाए तो आसानी से मर जाऊँ 

ग़नीमत है परिंदे मेरी तन्हाई समझते हैं 

अगर ये भी न हों तो घर के वीराने से मर जाऊँ 

नज़र-अंदाज़ कर मुझ को ज़रा सा खुल के जीने दे 

कहीं ऐसा न हो तेरी निगहबानी से मर जाऊँ 

बहुत से शे'र मुझ से ख़ून थुकवाते हैं आमद पर 

बहुत मुमकिन है मैं एक दिन ग़ज़ल-ख़्वानी से मर जाऊँ 

तिरी नज़रों से गिर कर आज भी ज़िंदा हूँ मैं क्या ख़ूब 

तक़ाज़ा है ये ग़ैरत का पशेमानी से मर जाऊँ 

-Mahshar afridi - महशर आफ़रीदी

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...