प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Friday, September 18, 2020

ख़मे मेहराबे हरम भी ख़मे अबू तो नहीं - khame meharaabe haram bhee khame aboo to nahin -नज़ीर बनारसी - Nazir Banarsi

 ख़मे मेहराबे हरम भी ख़मे अबू तो नहीं

कहीं काबे में भी काशी के सनम तू तो नहीं


तिरे आँचल में गमकती हुई क्या शै है बहार

उनके गेसू की चुराई हुई ख़ुशबू तो नहीं


कहते हैं क़तरा-ए-शबनम जिसे ऐ सुबह चमन

रात की आँख से टपका हुआ आँसू तो नहीं


इसको तो चाहिए इक उम्र सँवरने के लिए

ज़िन्दगी है तिरा उलझा हुआ गेसू तो नहीं


हिन्दुओं को तो यक़ीं हैं कि मुसलमाँ है 'नज़ीर'

कुछ मुसलमाँ हैं जिन्हें शक है कि हिन्दू तो नहीं ।



नज़ीर बनारसी - Nazir Banarsi


No comments:

Post a Comment

चीनी वैज्ञानिकों ने स्मार्टफ़ोन पर सैटेलाइट कॉल कैसे संभव बनाया | Satellite Calling Project तियानटोंग China

चीनी वैज्ञानिकों ने स्मार्टफ़ोन पर सैटेलाइट कॉल कैसे संभव बनाया  | Satellite Calling Project China   चीनी वैज्ञानिकों ने स्मार्टफ़ोन पर सैटे...