प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, June 10, 2020

नैया पड़ी मंझधार गुरु बिन कैसे लागे पार - naiya padee manjhadhaar guru bin kaise laage paar -कबीर- Kabir #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

नैया पड़ी मंझधार गुरु बिन कैसे लागे पार ॥


साहिब तुम मत भूलियो लाख लो भूलग जाये ।

हम से तुमरे और हैं तुम सा हमरा नाहिं ।

अंतरयामी एक तुम आतम के आधार ।

जो तुम छोड़ो हाथ प्रभुजी कौन उतारे पार ॥

गुरु बिन कैसे लागे पार ॥



मैं अपराधी जन्म को मन में भरा विकार ।

तुम दाता दुख भंजन मेरी करो सम्हार ।

अवगुन दास कबीर के बहुत गरीब निवाज़ ।

जो मैं पूत कपूत हूं कहौं पिता की लाज ॥

गुरु बिन कैसे लागे पार ॥

 कबीर- Kabir

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...